लॉक डाउन के कारण मज़दूरों का हुआ बुरा हाल,अपनी स्तिथि बताते हुए छलके आंसू।

नई दिल्ली:- देश भर में बढ़ते लोक डाउन के कारण देश की जनता को काफी परेशानियां झेलनी पढ़ रहीं हैं और इस मामले में देखा जाए तो सबसे ज्यादा दयनीय स्थिति मज़दूरों और आसपास के इलाकों में फंसे प्रवासियों की हो चुकी है उन्हें एक वक्त का खाना भी काफी मुश्किल से मिलता है जिस पर उनका बस यही कहना है कि ऐसी स्थिति में हम कोरॉना से मरेंगे या नहीं यह तो हमें नहीं पता लेकिन भूखमरी से ज़रूर मर जाएंगे।

एक घटना भारत की राजधानी दिल्ली से सुनने में आई है जिसमें एक 22 वर्षीय महिला महक ने लोक डाउन के दौरान एक बच्ची को जन्म दिया है बताया गया है कि महक उत्तराखंड के नैनीताल में एक गाँव में रहते थे और टाउन हॉल में मज़दूरी करते थे।

महक का कहना है कि लोकडाउन के कारण सभी दुकानें बंद हो चुकीं हैं और साथ ही सारे पैसे भी खत्म हो चुके हैं जिसके कारण उसे एक वक़्त का खाना भी मुश्किल से मिल रहा है जिसकी वजह से वो अपनी बच्ची को दूध भी नहीं पिला पा रही है, ऐसी ही एक घटना बिहार के नवाड़ा ज़िले से सामने आई चांद रानी और उसका पति मदन जो कि करनाल और हरियाणा में मज़दूरी करते हैं वे अपने परिवार के साथ पैदल चलकर किसी तरह दिल्ली आए और तभी से उन्होने एक झोंपड़ी को अपना घर बना लिया।

इन लोगों के पास भी खाने पीने के लिए कुछ नहीं ये लोग केवल मुट्ठी भर चावल और पानी से ही अपना पेट भर रहे हैं, हालांकि इन सभी प्रवासियों को राशन देने के लिए सरकार ने ऑनलाइन राशनकार्ड के रजिस्ट्रेशन के लिए वेबसाइट बनाई है लेकिन वो भी 2 दिन से हैंग हो रही है और जगह जगह स्कूलों में खिलाए जा रहे खाने के लिए अगर ये लोग जाते हैं तो पुलिस इन्हें डंडे मारकर भगा देती है, देखा जाए तो मज़दूरों को काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ा रहा है जो कि बहुत दयनीय है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here