ये कुछ ऐसा काम है अगर अमीर करे तो ठीक और गरीब करे तो चरित्रहीन।

अक्सर आप सभी लोगो ने देखा है और यही होता आ रहा है वर्षो से और अभी भी ऐसा ही है आज भी गरीबी अमीरी देख कर लोगो के साथ बर्ताव किया जा रहा है।
अक्सर हमारे समाज मे अमीरों की बीवी,बेटी,बच्चे रात को घर देर से आते है, बाहर घूमने जाते है कोई रोक टोक नही होता है,लेकिन जब एक गरीब की बेटी,बीवी ओर उसके बच्चे देर से आते है तो लाखों लोग टोकने वाले मिल जाते है उल्टा सीधा बोलने लगते है, अगर वो रात को अगर घर देर हो जाए आने मैं तो उनके चरित्र पर भी उंगलिया उठाने लगते है।
ऐसा क्यों होता है गरीब और अमीर मैं इतना भेद-भाव।

आप लोग अक्सर देखते है अमीर अपने कपड़े घर की सजावट पर काफी पैसा खर्च करते है, लेकिन वही जब एक गरीब आदमी अपने घर की मरम्मत करवाता है और घर पर सजावट करता है तो लोग कहते है कि दिखावा कर रहा है इतना भेदभाव क्यों।

आज कल सभी लोग बड़े बड़े दुकान मॉल मैं खरीदारी करने जाते है कंपनियों का समान खरीदते वक़्त जितना पैसा मांगा जाता है उतना ही देते है लेकिन वही जब वो लोग किसी बाजार या या ठेले पर से सामान खरीदते है तो उसे 5,10 रुपये काम देते है, ओर वो नही मानता है तो उससे कहते है पैसे इतने छोड़ना पड़ेगा वरना समान नही लेंगे। एक अमीर की दुकान ओर गरीब के ठेले पर इतना फर्क हो जाता है,सबसे ज्यादा मजेदार की बात अक्सर ऐसा होता है बड़े बड़े पूजीपतियो के करोड़ो,अरबो का कर्ज माफ कर दिया जाता है लेकिन जब बात हमारे किसानों की कर्जमाफी की आती है तो सरकार के पैसे खत्म हो जाते है। जीवन की राह कैसी भी लेकिन चलना फिर भी है जीना फिर भी है।

दोस्तो आप सभी अपना सुझाव दे कि ऐसा क्यों होता होता है और सरकार भी इसमें शामिल है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here